प्राचीन काल से भारत शिक्षा के क्षेत्र में विश्व का शिरोमणि रहा है | मध्यकाल में तक्षशिला एवं नालंदा विश्वविद्यालय विश्व के श्रेष्ठतम विश्वविद्यालय रहे हैं, पर वर्तमान में चिंता तब होती है जब 73 देशों की प्रतियोगिता में हमारे बच्चे 72वें स्थान पर आतेे हैं।

ऐसे समय में हमारा प्रयत्न है कि बच्चों का शिक्षण कार्य नवीनतम चिंतन एवं विधियों के अनुसार हो । उच्च कोटि के शिक्षक आर्य पब्लिक स्कूल की उपलब्धि व शक्ति हैं। बच्चों का शारीरिक, मानसिक व सामाजिक विकास करना यही हमारा लक्ष्य है। वर्तमान परिस्तिथियों में यह संभव है और हम उसके लिए प्रयत्नशील है।मैं अभिभावकगण से पूर्ण सहयोग की अपेक्षा करता हूॅं ।

(Pradyuman Singh)

 

From President's Desk